lovebet गुटशेन

lovebet गुटशेन

time:2021-10-16 09:50:20 ओला-ऊबर नहीं वसूल सकेंगे ज्यादा किराया, सरकार ने जारी कीं नई गाइलाइंस Views:4591

बेस्ट ऑफ फाइव गेम APK lovebet गुटशेन 188bet लिंक अल्टरनेटिफ लॉगिन,casumo उत्तर फ्लैशबैक,lovebet 15 फ्री,lovebet यूरो,lovebet प्रश्नोत्तरी,lovebetasia.com लॉगिन,बैकारेट 10 पीस ग्रेनाइट,बैकारेट जाम जार,बार एक्स लवबेट,बेटिंग यांकीज़ बनाम रेड सॉक्स,कैसीनो कमाई ऐप,कैसीनो वाई नेगोसियोस ला एस्ट्रेला सास,क्रिकेट 07,क्रिकेट रैंकिंग,ई-स्पोर्ट्स हांगकांग,qlovebet.log त्रुटियों को ठीक करें,फुटबॉल यू 23,गो2 लवबेट,सबा स्पोर्ट्स के लिए खाता कैसे खोलें,10cric असली है,जंगल रम्मी लॉग इन,फिलाडेल्फिया में लाइव कैसीनो,के कैंप द्वारा लॉटरी,लूडो हिंदी में,ओ लवबेट मंदिर ऐप,ऑनलाइन गेम बजर,ऑनलाइन पोकर हाँ या नहीं,परिमच अपडेट,पोकर ऑनलाइन ट्रे एमिसिक,री शतरंज स्कूल,जीमेल में नियम फ़ोल्डर में चले जाते हैं,रम्मीकल्चर संस्थापक,स्लॉट मशीन विजेता ध्वनि,खेल विभाग हरियाणा,Sportskeeda.com क्रिकेट,टेक्सस होल्डम ज़साडी,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल लाइव प्रसारण,कौन सा कैश गेम प्लेटफॉर्म अच्छा है,21 बजे game,ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए वेबसाइट,क्रिकेट उद्घाटन,गोवा मुक्ति दिवस,तीन पत्ती फ्री डाउनलोड,बकरी चरा,बैकारेट units,स्टेटस अप्प, .ओला-ऊबर नहीं वसूल सकेंगे ज्यादा किराया, सरकार ने जारी कीं नई गाइलाइंस

ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियां सबसे पीक आवर्स के दौरान किराये में कई गुना बढ़ोतरी कर देती हैं. अब सरकार ने इन कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है.
ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियां सबसे अहम समय यानी पीक आवर्स के दौरान किराये में कई गुना बढ़ोतरी कर देती हैं. लेकिन अब सरकार ने इन कंपनियों पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है.

सरकार ने शुक्रवार को ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियों के ऊपर मांग बढ़ने पर किराए बढ़ाने की एक सीमा लगा दी है. अब ये कंपनियां मूल किराए के डेढ़ गुने से अधिक किराया नहीं वसूल सकेंगी.

दरअसल सरकार का यह कदम अहम इसलिए भी हो जाता है, क्योंकि लोग कैब सेवाएं देने वाली कंपनियों के अधिकतम किराए पर लगाम लगाने की लंबे समय से मांग कर रहे थे. यह पहली बार है जब भारत में ओला और उबर जैसे कैब एग्रीगेटर्स को रेग्यूलेट करने के लिए सरकार ने दिशानिर्देश जारी किए हैं.

कार पूल करने वाले कमर्शियल प्लेटफॉर्म्स को भी नियमों का पालन करना होगा और इस लाइसेंस हालिस करना होगा. हालांकि, नए नियम तभी लागू होंगे, जब राज्य सरकारें उनसे जुड़ी अधिसूचना जारी करेंगे.

इसे भी पढ़ें: वैक्सीन का जायजा लेने पीएम मोदी पहुंचे अहमदाबाद, पुणे व हैदराबाद भी जाएंगे

कैब कंपनियों को डेटा स्थानीयकरण सुनिश्चित करना होगा कि डेटा भारतीय सर्वर में न्यूनतम तीन महीने और अधिकतम चार महीने उस तारीख से संग्रहीत किया जाए, जिस दिन डेटा जेनरेट किया गया था.

डेटा को भारत सरकार के कानून के अनुसार सुलभ बनाना होगा लेकिन ग्राहकों के डेटा को यूजर्स की सहमति के बिना शेयर नहीं किया जाएगा. कैब एग्रीगेटर्स को एक 24x7 कंट्रोल रूम स्थापित करना होगा और सभी ड्राइवरों को अनिवार्य रूप से हर समय कंट्रोल रूम से जुड़ा होना होग.

नए नियमों के मुताबिक, कैब कंपनी को बेस फेयर से 50 फीसदी कम चार्ज करने की अनुमति होगी. केंद्र सरकार ने एग्रीगेटर को रेगुलेट करने के लिए गाइडलाइन्स जारी किया है जिसका राज्य सरकारों को भी पालन करना अनिवार्य होगा.

वहीं, कैंसिलेशन फीस कुल किराए का दस प्रतिशत होगा, जो राइडर और ड्राइवर दोनों के लिए 100 रुपए से अधिक नहीं हो सकता. ड्राइवर को अब ड्राइव करने पर 80 फीसदी किराया मिलेगा, जबकि कंपनी को 20 प्रतिशत किराया ही मिल सकेगा.

मंत्रालय ने बयान में कहा है कि इससे पहले एग्रीगेटर का रेगुलेशन उपलब्ध नहीं था। अब इस नियम को ग्राहकों की सुरक्षा और ड्राइवर के हितों को ध्यान में रखकर बनाया गया है जिसे सभी राज्यों में लागू किया जाएगा. बता दें कि मोटर व्हीकल 1988 को मोटर व्हीकल एक्ट, 2019 से संशोधित किया गया है.



हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

केंद्र सरकारमोटर व्हीकल एक्टराज्य सरकारकैब एग्रीगेटर्सटैक्सीओलाकैब कंपनियांउबर

ETPrime stories of the day

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you
Cryptocurrency

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you

15 mins read
Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?
Markets

Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?

8 mins read
People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?
Banking

People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?

12 mins read

2020 में कई बड़े स्‍मार्टफोन ट्रेंड देखने को मिले हैं. इनमें 100x जूम, 65 वॉट चार्जिंग, लिडार कैमरा, डॉल्‍बी विजन वीडियो, 7000 एमएएच बैटरी के अलावा कई और शामिल हैं. क्‍या आप जानना चाहेंगे कि भारत में इन फीचरों की शुरुआत किसने की है और ऐसे स्‍मार्टफोन ब्रांडों की कीमत कितनी है? यहां हम आपको इनके बारे में बता रहे हैं.भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.दिवाली से पहले धनतेरस में सिक्कों और हल्के आभूषणों की बिक्री बढ़ी

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.ये कंपनियां भी बढ़ा रही हैं अपने वाहनों के दाम, जनवरी से हो जाएंगे महंगे

युवा खासतौर से डायमंड ज्‍वेलरी खरीदने में दिलचस्‍पी लेते हैं. 10,000-20,000 रुपये की रेंज में लो प्राइस डायमंड ज्‍वेलरी के खासतौर से अच्‍छा करने की उम्‍मीद है.भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.होंडा की कारें भी होंगी महंगी, जनवरी से बढ़ेंगे दाम

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
क्लासिक रम्मी ऑफर

2020 में कई बड़े स्‍मार्टफोन ट्रेंड देखने को मिले हैं. इनमें 100x जूम, 65 वॉट चार्जिंग, लिडार कैमरा, डॉल्‍बी विजन वीडियो, 7000 एमएएच बैटरी के अलावा कई और शामिल हैं. क्‍या आप जानना चाहेंगे कि भारत में इन फीचरों की शुरुआत किसने की है और ऐसे स्‍मार्टफोन ब्रांडों की कीमत कितनी है? यहां हम आपको इनके बारे में बता रहे हैं.

मेरे पास लाइव लाठी

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.

लॉटरी डे चार्ट

शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.

lovebet साइन अप करें

निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

Baccarat में जोड़े

निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी