फुटबॉल एक ला टीवी

फुटबॉल एक ला टीवी

time:2021-10-16 10:58:38 फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए? Views:4591

स्लॉट-ए-मजेदार कैसीनो फुटबॉल एक ला टीवी betway केन्या कैसीनो,fun88asia1,lovebet ६०००० बोनस,lovebet जैकपॉट विजेता,lovebet ट्रस्टपायलट,365 गेमिंग,बैकरेट सट्टेबाजी संयोजन,बैकरेट संभाव्यता विश्लेषण सॉफ्टवेयर पंजीकरण,ICSE 2020 के लिए बेस्ट ऑफ फाइव रूल,कैंप क्रिकेट बुक,कैसीनो नेटफ्लिक्स,शतरंज या ट्रोन,मेरे पास क्रिकेट कोचिंग,डी कैसीनो करियर,यूरोपीय कप फुटबॉल मैच की भविष्यवाणी,फ़ुटबॉल पारखी का पसंदीदा,जुआ खेल,खुश किसान पियानो सुजुकी पुस्तक 2,भारतबेट ऐप डाउनलोड,जैकपॉट डाउनलोड,नवीनतम क्रिकेट पुस्तक विमोचन,लाइव रूले खाता खोलना,लॉटरी न्यूयॉर्क लाइव,एम.लवबेट एशिया,ऑनलाइन कैसीनो Europa.com,ऑनलाइन गेम ज़ोंबी,ऑनलाइन स्लॉट असली सोमआई इंडिया,पोकर 60,पोकर95,रूले रणनीति जीतने के लिए,रम्मी जे के क्यू नंबर,सबा स्पोर्ट्स बेटिंग,स्लॉट हिंदी में मतलब,खेल ता,तीन पत्ती ऑक्ट्रो मॉड APK,लाइव बैकारेट की विधि,आभासी क्रिकेट सेटअप लागत,विलियम हिल स्पोर्ट्स,sports न्यूज़ इन हिंदी,केन केन,खेल लॉटरी live,जो कार्टून,पोकर पहेली,बेटा अगर दुख में,रूले वीडियो,स्टेटस यारी, .फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए?

फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.
फ्रेंकलिन टेंपलटन की स्टोरी में रोज नई रोचकता आ रही है. तरलता के संकट से शुरू हुआ फ्रैंकलिन का मामला अब डेट फंड को बंद करने से होता हुआ विदेश नीति पर जाकर अटक गया है. इस बारे में पिछले महीने इकनॉमिक टाइम्स ने आपको जानकारी दी थी कि एसेट मैनेजर के अमेरिकी पैरंट कंपनी ने इस मामले में भारतीय प्रशासन से संपर्क कर समाधान निकालने के लिए डिप्लोमेटिक चैनल ढूंढना शुरू किया है.

इसे भी पढ़ें: एथनिक ड्रेस पर इतना बड़ा दांव क्यों खेल रही है आदित्य बिड़ला फैशन?
एसेट मैनेजर ने वास्तव में यह भी संकेत दिया था कि अगर नियामक इसके ऊपर कार्रवाई करता है तो यह उस से कैसे पीछा छुड़ा सकता है. इसके कुछ दिन बाद ही फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी. उसके बाद भी फंड हाउस द्वारा कई स्कीम को वापस लेने की वजह से फ्रेंकलिन के निवेशक निराश हो चुके हैं.

एक नए डेवलपमेंट में अब फ्रेंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड के उन निवेशकों के लिए भी संकट आ सकता है जो उसके द्वारा बंद किए गए 6 फंड से अलग निवेश कर चुके हैं. भारत में म्यूचुअल फंड कारोबार में बहुत पुरानी खिलाड़ियों में से एक फ्रेंकलिन टेंपलटन ने भारत में दुनिया के बेस्ट वेल्थ मैनेजमेंट प्रैक्टिस की शुरुआत की थी.

वास्तव में राजकोषीय प्रावधानों और जिम्मेदारियों के हिसाब से फ्रेंकलिन टेंपलटन के प्रावधान को गोल्ड स्टैंडर्ड का माना जाता था. डेट स्कीम को हैंडल करने में फ्रेंकलिन टेंपलटन की गलतियों ने बहुत से निवेशकों का भरोसा छीन लिया है.

फ्रेंकलिन टेंपलटन की म्यूचुअल फंड स्कीम में अब तक ₹78,000 करोड़ का निवेश किया जा चुका है, लेकिन बहुत से लोग अपना निवेश भुनाना चाहते हैं. सवाल यह है कि क्या आपको फ्रेंकलिन टेंपलटन फंड में किए गए निवेश में बने रहना चाहिए या इसे भुना लेना चाहिए?

अगर आप इस बात से परेशान हैं कि आपका पैसा फ्रेंकलिन के पास पड़ा हुआ है तो आपको इस निवेश से घबराने की जरूरत नहीं है. आपका पैसा सुरक्षित है और यह एक ट्रस्ट में रखा हुआ है जो आपके नाम से बना हुआ है. एएमसी सिर्फ फीस लेकर आपके पैसे का प्रबंधन कर रही है. अगर कोई फंड हाउस अपना कारोबार समेट लेता है और बंद हो जाता है तो निवेशकों को मौजूदा एनएवी पर फंड हाउस से निकलने का मौका मिलता है.

अगर निवेशक जबरन अपना पैसा किसी म्यूचल फंड से निकालते हैं तो इसमें भी जोखिम होता है. सबसे पहली बात तो यह कि आपको कैपिटल गैन पर टैक्स देना पड़ता है. इसके साथ ही आपकी टैक्स देनदारी इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपने किसी स्कीम में किस तरह से निवेश किया हुआ है. इसके साथ ही दोबारा इन्वेस्टमेंट के जोखिम की वजह से भी किसी म्यूच्यूअल फंड से निकलना समझदारी वाला काम नहीं है.

इसे भी पढ़ें: भारत को जीरो एमिशन टार्गेट का वादा क्यों नहीं करना चाहिए?

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

फ्रेंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंडफ्रेंकलिननिवेशम्यूचुअल फंडफ्रैंकलिन टेम्पलटनएमएफ

ETPrime stories of the day

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you
Cryptocurrency

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you

15 mins read
Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?
Markets

Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?

8 mins read
People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?
Banking

People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?

12 mins read

विशेषज्ञों का कहना है कि औद्योगिक कमोडिटीज में निवेश से सोने के मुकाबले बढ़िया रिटर्न मिल सकता हैसामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.मुझे महीने में 40,000 रुपये म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करना है, किन स्‍कीमों में लगाऊं?

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.फ्रेंकलिन टेंपलटन के इंडियन मैनेजमेंट ने घरेलू कारोबार के लिए अपनी प्रतिबद्धता जताई थी.मुझे रिटायरमेंट के लिए 21 साल में 1 करोड़ रुपये जुटाना है, कैसे प्‍लान बनाऊं?

चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है.निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.फ्रैंकलिन टेम्पलटन एमएफ से आपको अपना निवेश कब निकालना चाहिए?

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
भारत में कानूनी सट्टेबाजी

चूंकि एफओएफ दूसरी म्‍यूचुअल फंड स्‍कीमों में निवेश करते हैं. लिहाजा, डुप्‍लीकेशन की कॉस्‍ट आ सकती है.

रम्मीकल्चर हमसे संपर्क करें

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.

क्या बैकारेट करने की कोई तरकीब है?

बाजार नियामक सेबी ने एक्सपेंस रेशियो की सीमा तय की हुई है. ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम के एयूएम के आधार पर सेबी ने विभिन्न स्‍लैब बनाए हैं.

बेताब तुमने दी आवाज

ईटीएफ नए निवेशकों के लिए अच्‍छा विकल्‍प है. इसके लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत होगी.

स्पोर्ट्सबुक वेगास पूल

बाजार नियामक सेबी ने एक्सपेंस रेशियो की सीमा तय की हुई है. ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम के एयूएम के आधार पर सेबी ने विभिन्न स्‍लैब बनाए हैं.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी