lovebetाऊ टोगो

Publishing time:2021-10-16 10:17:02

एक किसान को जन्मदिन की बधाई lovebetाऊ टोगो 188bet लॉगिन,casumo रिक्तियों,lovebet 1 पोस्ट पास्ट,lovebet यूरोकोपा,lovebet उद्धरण,lovebetौ बेनिन,बैकारेट 1-3-2-6 रणनीति,बैकारेट जापानी चाकू सेट,बास फिशिंग रश क्रीक लेक,सट्टेबाजी यॉर्क दौड़,कैसीनो इमोजी,कैसिनोविटा टी,क्रिकेट 07 पीसी,क्रिकेट रिकॉर्ड बुक पीडीएफ डाउनलोड,एस्पोर्ट्स आइकन,फ्लाई फिशिंग रश क्रीक कैलिफ़ोर्निया,फ़ुटबॉल यू पिक एम,गोल्ड रश फिशिंग वेस्टपोर्ट वा,ऑनलाइन अकाउंट कैसे खोलें,क्या बैकरेट एक सौदा है?,पेटीएम में जंगल रम्मी ऑफर,लाइव कैसीनो इंटरनेशनल,लॉटरी कनाडा,लूडो जैकपॉट,ओ क्यू सिग्निफिका लवबेट,ऑनलाइन गेम कार रेसिंग,ऑनलाइन पोकर ज़ा पेनियाज़े,पैरामैच रिक्तियां,पोकर ऑर्डर,री फुटबॉल अकादमी,फुटबॉल के नियम,रम्मीकल्चर गेम,स्लॉट मशीन एक्सबॉक्स,खेल ड्राइंग,स्पोर्ट्समैन प्लेस ब्रेंटवुड NY,टेक्सास होल्डम ज़ूम,यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल मैच,किस कैसीनो की सबसे ज्यादा प्रतिष्ठा है,21 बजे in hindi,ऑनलाइन पैसे बचाएं x,क्रिकेट ऊर्जा,गोवा में सबसे सस्ता लॉज,तीन पत्ती बिन,बकरी चुड़ैल,बैकारेट video,स्टेटस ॲप, .वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा

लगातार दूसरा वित्त वर्ष रहा जब गोल्ड ईटीएफ में निवेश हुआ. इससे पहले 2013-14 से गोल्ड ईटीएफ से लगातार निकासी देखने को मिली थी.
नई दिल्ली: जोखिम बढ़ने और कोविड-19 महामारी के बीच अनिश्चितता के चलते निवेशकों के सोने का आकर्षण बढ़ा है. वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) में निवेशकों ने 6,900 करोड़ रुपये डाले.

यह लगातार दूसरा वित्त वर्ष रहा जब गोल्ड ईटीएफ में निवेश हुआ. इससे पहले 2013-14 से गोल्ड ईटीएफ से लगातार निकासी देखने को मिली थी. म्यूचुअल फंडों की संस्था एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है.

इसे भी पढ़ें: किसे सता रहा अमेरिका में महंगाई बढ़ने का डर?

माईवेल्थग्रोथ डॉट कॉम के सह-संस्थापक हर्षद चेतनवाला ने कहा कि इस बात की संभावना काफी कम है कि चालू वित्त वर्ष में भी गोल्ड ईटीएफ में निवेश का यह ट्रेंड जारी रहे. हालांकि, कोरोना की दूसरी लहर ने बाजार को डरा दिया है.

एम्फी के आंकड़ों के अनुसार हाल में समाप्त वित्त वर्ष में निवेशकों ने गोल्ड से जुड़े 14 ईटीएफ में शुद्ध रूप से 6,919 करोड़ रुपये का निवेश किया. यह 2019-20 में हुए 1,614 करोड़ रुपये के निवेश का चार गुना है.

इससे पहले 2018-19 में गोल्ड ईटीएफ से शुद्ध रूप से 412 करोड़ रुपये की निकासी हुई थी. 2017-18 में गोल्ड ईटीएफ से 835 करोड़ रुपये, 2016-17 में 775 करोड़ रुपये, 2015-16 में 903 करोड़ रुपये, 2014-15 में 1,475 करोड़ रुपये और 2013-14 में 2,293 करोड़ रुपये निकाले गए थे.

इसे भी पढ़ें: विदेशी निवेशकों ने अप्रैल में भारतीय बाजार से निकाले 929 करोड़ रुपये

हालांकि, साल 2012-13 के दौरान इस सेगमेंट में 1,414 करोड़ रुपये का निवेश हुआ था. बीते कुछ सालों से रिटेल निवेशकों ने बेहतर रिटर्न की चाहत में गोल्ड ईटीएफ की तुलना में इक्विटी बाजार में अधिक पैसा डाला है.

क्वांटम म्यूचुअल फंड के सीनियर फंड मैनेजर (ऑल्टरनेटिव इंवेस्टमेंट) चिराग मेहता ने कहा, "अधिक जोखिम और कोरोना वायरस के चलते बढ़ी अस्थिरता का असर इक्विटी जैसे जोखिम भरे एसेट्स को प्रभावित करेंगी. निवेशकों की दिलचस्पी गोल्ड जैसे सुरक्षित एसेट्स में बढ़ सकती है."




हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

गोल्ड ईटीएफक्वांटम म्यूचुअल फंडएम्फीशेयर बाजारईटीएफएक्सचेंज ट्रेडेड फंडमाईवेल्थग्रोथ डॉट कॉमकोरोना वायरस

ETPrime stories of the day

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you
Cryptocurrency

As cryptocurrency bull run gets investors’ attention, smart scams, FOMO and greed are out to get you

15 mins read
Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?
Markets

Ritesh Agarwal has steered Oyo from chaos to clarity. Is that enough to pull off a successful IPO?

8 mins read
People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?
Banking

People vs. banks: Will the common man benefit as the transparency fight enters the last leg?

12 mins read
वित्त वर्ष 2020-21 में गोल्ड ईटीएफ में निवेश चार गुना बढ़ा

सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.सामान्‍य सिप के मामले में निवेशक सिप की अवधि में अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन नहीं बढ़ा सकते हैं. अगर वे इसे बढ़ाना चाहते हैं तो उन्‍हें नए सिरे से सिप शुरू करना होगा या एकमुश्त निवेश करने की जरूरत होगी.मुझे महीने में 40,000 रुपये म्‍यूचुअल फंडों में निवेश करना है, किन स्‍कीमों में लगाऊं?

भारतीय नियामकों का ऐसी करेंसी को लेकर रुख स्पष्ट नहीं है. उन्‍होंने साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा है कि भारतीय इनमें ट्रेड करें या नहीं.फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की बंद हो चुकी स्कीमों के निवेशकों को इस हफ्ते पैसे मिल जाएंगे. छह स्कीमों के निवेशकों को 2,962 करोड़ रुपये इस हफ्ते मिल जाएंगे.फ्रैंकलिन टेम्पलटन के निवेशकों को इस हफ्ते मिलेंगे 2,962 करोड़ रुपये

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.साल में कम से कम एक निवेश की समीक्षा जरूर करें और दोबारा संतुलन बनाएं. अपने लिए पर्याप्‍त लाइफ इंश्‍योरेंस खरीदें.बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


क्रिकेट विशेषज्ञ
ऑनलाइन कैसीनो kostenlos
ek Patti चाय की पतिला पानी
किस ऑनलाइन बैकारेट गेम की प्रतिष्ठा सबसे अच्छी है
स्पोर्ट्स हाफ पंत फ्लिपकार्ट
पोकर यूआई
गांव खेड़ी
ऑनलाइन कैश कैसे जीतें Sic Bo
शतरंज का ठिकाना
एनबीए लाइव प्रसारण हॉल
लाइव रूले इमर्सिव
शतरंज मैं बनाम कंप्यूटर
सट्टा फिल्म
खुश किसान वायलिन
ऑनलाइन कैसीनो 18 साल पुराना
lovebet2 कारक प्रमाणीकरण अक्षम
लॉटरी कैसे खेलें
फुटबॉल शू
बकारट १८७१ सिगार
क्रिकेट इंग्लैंड बनाम पाकिस्तान
lovebet 9ja
करुणा भारत का गाना
नकद टाई
राज दुनिया
पोकर औ देसो
क्लासिकरम्मी जोन
लूडो हाई